शांता बोले-कांग्रेस का एकमात्र इलाज गांधी परिवार की 'गुलामी' से बाहर आना

हिमाचल के पूर्व सीएम शांता कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय राजनीति में फिर से प्रासंगिक बनने के लिए कांग्रेस को गांधी परिवार की छत्रछाया से बाहर आना चाहिए।
 | 
shanta kumar Congress must come out of Gandhi family shadow to be relevant

धर्मशाला। देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस की मौजूदा हालत से दूसरे दलों के नेता भी चिंता में हैं। हिमाचल प्रदेश के पूर्व सीएम शांता कुमार ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्रीय राजनीति में फिर से प्रासंगिक बनने के लिए कांग्रेस को गांधी परिवार की छत्रछाया से बाहर आना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने कैप्टन अमरिंदर को कांग्रेस न छोड़ने की भी सलाह दी। उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस को राजनीतिक परिदृश्य से हटा दिया जाता है तो भारत का लोकतंत्र राष्ट्रीय विपक्ष के बिना रह जाएगा। उन्होंने धर्मशाला में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस ही भाजपा के बाद एकमात्र राष्ट्रीय पार्टी है।

शांता ने कहा कि यदि कांग्रेस कमजोर होती है तो फिर राष्ट्रीय स्तर पर राजनीति विपक्षहीन हो जाएगी। लोकतंत्र का रथ दो पहियों पर चलता है। एक सत्ता पक्ष और दूसरा विपक्ष। उन्होंने कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी, जो कभी नेहरू, गांधी और पटेल के नेतृत्व में थी, हाल में एक 'मजाक' बनकर रह गई है। पूर्व सीएम ने सक्षम नेतृत्व प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा की, लेकिन देश में एक मजबूत विपक्ष के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने कहा, 'अटल जी (अटल बिहारी वाजपेयी) कहा करते थे कि हमें हमेशा पार्टियों की छोटी दीवारों में नहीं रहना चाहिए। इसलिए मैं यह देश के मंदिर में खड़े होकर कह रहा हूं।' 


अटल और आडवाणी के साथ लंबे अरसे तक राजनीति में सक्रिय रहे 87 वर्षीय शांता कुमार ने कहा कि कांग्रेस के लिए एकमात्र इलाज गांधी परिवार की 'गुलामी' से बाहर आना है। पार्टी (कांग्रेस) में एक से अधिक राष्ट्रीय नेता हैं। उन्होंने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से कांग्रेस नहीं छोड़ने की बात कही। इसके साथ ही उन्होंने कैप्टन को गुलाम नबी आजाद, कपिल सिब्बल और शशि थरूर जैसे जी-23 नेताओं के साथ बैठकर पार्टी में आजादी के लिए लड़ने और एक परिवार की 'गुलामी' से बाहर निकलने का आग्रह किया।'

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।