नवरात्रों में सुबह 4 से रात्रि 10 बजे तक खुले रहेंगे शक्तिपीठों के द्वार

उपायुक्त डॉ. निपुण जिंदल ने बताया कि मंदिरों में श्रद्वालुओं को कोविड प्रोटोकॉल की अनुपालना सुनिश्चित करना जरूरी है।

 | 
Jwala-Devi-Temple

धर्मशाला। कोरोना महामारी के बीच वीरवार से शारदीय नवरात्र शुरू हो रहे हैं। कोरोना के कारण प्रदेश के धार्मिक स्थलों को कोरोना प्रोटोकॉल के साथ ही खुले रहेंगे। शारदीय नवरात्र के शक्तिपीठ मंदिर सुबह 4 बजे से खुल जाएंगे। रात्रि 10 बजे तक मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खुले रहेंगे। इस दौरान सुबह 4 बजे से रात्रि 10 बजे तक दर्शनों के लिए खुले रहेंगे। यह जानकारी उपायुक्त कांगड़ा डॉ. निपुण जिंदल ने दी।


उपायुक्त डॉ. निपुण जिंदल ने बताया कि मंदिरों में श्रद्वालुओं को कोविड प्रोटोकॉल की अनुपालना सुनिश्चित करना जरूरी है। इसके साथ ही संबंधित उपमंडलाधिकारियों तथा उप पुलिस अधीक्षकों को श्रद्वालुओं की थर्मल स्कैनिंग के लिए भी उचित कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि आरती के समय मंदिर में श्रद्वालुओं को प्रवेश वर्जित रहेगा। मंदिर में भजन, कीर्तन, जागरण पर पूर्णतय रोक रहेगी। 


उन्होंने बताया कि हवन इत्यादि के लिए सामाजिक दूरी के साथ साथ कोविड प्रोटोकॉल की अनुपालना सुनिश्चित करना जरूरी होगा। इसके साथ ही हवन में सम्मलित होने वाले श्रद्वालुओं को कोविड वैक्सीन की डबल डोज का प्रमाण पत्र देना जरूरी होगा। डीसी ने कहा कि नवरात्रों के दौरान मंदिर परिसर में मेडिकल हेल्प डेस्क भी स्थापित किया जाएगा, ताकि कोविड प्रोटोकॉल के साथ-साथ श्रद्वालुओं के लिए उपचार की सुविधा दी जा सके।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।