Hamirpur: हर घर गऊमाता को बनाए, अपने परिवार का सर्वोच्च सदस्य - महंत राजेंद्र गिर

ट्रस्ट गठन के बाद 35 सालों में पहली बार मनाया गया यह अनूठा पर्व , तीन दिवसीय गोपाष्टमी पर्व बाबा बालक नाथ की सिद्ध धरा पर धूमधाम से हुआ संपन्न
 
 | 
.

हमीरपुर ।    उत्तरी भारत के प्रसिद्ध सिद्ध पीठ बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध द्वारा संचालित कलवाल गौशाला में तीन दिवसीय गोपाष्टमी पर्व पर गौ महिमा सत्संग का आयोजन किया गया। बाल योगी बाबा बालक नाथ की पावन धरा पर आयोजित तीन दिवसीय गोपाष्टमी पर्व धूमधाम से संपन्न हुआ है। मंदिर ट्रस्ट दियोटसिद्ध के महंत श्रीश्रीश्री1008 राजेंद्र गिर जी महाराज के प्रयासों से यह गोपाष्टमी पर्व ट्रस्ट गठन के 35 वर्षों बाद पहली बार मनाया गया है।


महंत राजेंद्र गिर  की मानें तो बाबा बालक नाथ व गौ माता के अटूट नाते को दर्शाता यह पर्व इस सिद्ध धरा पर हर वर्ष मनाया जाना जरूरी है। बाबा बालक नाथ मंदिर की गऊशाला कलवाल में मनाए गए इस गोपाष्टमी पर्व के लिए बाल संत प्रफुल महाराज विशेष तौर पर आमंत्रित किए गए थे। जबकि इस भव्य समारोह की अध्यक्षता मंदिर ट्रस्ट चेयरमैन एवं एसडीएम बड़सर शशिपाल शर्मा के साथ महंत श्रीश्रीश्री1008 राजेंद्र गिर जी महाराज ने स्वयं की। महंत राजेंद्र गिर तीन दिवसीय पर्व के दौरान अधिकांश समय श्रद्धालुओं के बीच आयोजन पंडाल में मौजूद रहे। जहां बाल संत प्रफुल महाराज ने श्रीमदभागवत कथा का निरंतर श्रवण भी किया व गौ महिमा पर अपने प्रवचन भी रखे हैं।


बाल संत प्रफुल महाराज ने गौ महिमा का बखान करते हुए कहा कि गाय की रीड में स्थित सुर्य केतु नाड़ी सर्वरोग नाशक, सर्व विघ्न नाशक होती है। सुर्य केतु नाड़ी सुर्य के संपर्क में आने पर स्वर्ण का उत्पादन करती है। गऊमाता के रोम रोम से उत्पन्न यह स्वर्ण दूध, मूत्र व गोबर के रूप में मिलता है। गऊमाता का स्वर्ण दूध व मूत्र का सेवन करने से शरीर में अद्भुत कांति आती है। गोबर के माध्यम से फसलों के उत्पादन में क्रांति आती है। कई असाध्य बीमारियों में जिन रोगियों को स्वर्ण भस्म की सेवन की सलाह दी जाती है वह अगर गऊ माता का दूध पिएं तो स्वर्ण भस्म से भी बढ़कर परिणाम मिलते हैं। गऊमाता के पिंडे में 33 प्रकार के देवता निवास करते हैं। अत: जो परिवार गऊमाता की सेवा निरंतर करते हैं उन पर दैवीय कृपा लगातार बनी रहती है।


महंत राजेंद्र गिर ने कहा कि बाल योगी बाबा बालक नाथ की गौ सेवा इस धरा में प्रकृति के संरक्षण व जनता के हित के लिए एक बड़ा संकेत है। उन्होंने कहा कि गोपाष्टमी में गऊ सेवा का निरंतर संकल्प करने से अभूतपूर्व सुख और सौभाग्य की वृद्धि होती है। उन्होंने गौ पर्व में उमड़े श्रद्धालुओं से आग्रह किया है कि हर घर गौ माता को अपने परिवार का सर्वोच्च सदस्य मानकर सेवा करे। उन्होंने कहा कि गऊ पूजा व प्रार्थना का गोपाष्टमी उत्सव में बड़ा महत्व है। इस त्यौहार पर हिंदू समाज गऊमाता के प्रति कृतज्ञता व सम्मान का संकल्प लेते हैं।

.

यह भी पढ़ेंः-   TGT कला संघ का 30 सूत्रीय JCC एजेंडा कार्मिक सचिव के सुपुर्द - Vijay Heer

महंत राजेंद्र गिर ने कहा कि सांइटिफिक तौर पर गऊमाता ही एक ऐसा प्राणी है जो ऑक्सीजन ग्रहण करके आक्सीजन ही वातावरण में छोड़ते हैं। बाबा बालक नाथ दियोटसिद्ध की धरती के आसपास के क्षेत्रों में गऊमाता की सेवा का पुण्य कई गुना बढ़कर मिलता है, यह निश्चित है। उन्होंने कहा कि बाबा बालक नाथ व गऊमाता का नाता यही दिखाता व बताता है कि आम आदमी के जीवन के लिए इस सिद्ध धरा पर गऊमाता की सेवा निश्चित तौर पर कल्याणकारी व कारगर साबित होगी। इस अवसर पर जहां एक ओर हजारों श्रद्धालु मौजूद रहे। वहीं एसडीएम बड़सर शशिपाल शर्मा के साथ प्रशासनिक अमला व ट्रस्टियों की जमात ने भी बढ़चढ़ कर गोपाष्टमी पर्व पर भाग लिया।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहांक्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमेंगूगल न्यूज पर फॉलो करें।