लाहौल-स्पिति के ट्रैकिंग रूट बंद, डीसी ने जारी की अधिसूचना

लाहौल-स्पिति प्रशासन ने सर्दियों के मौसम को देखते हुए समस्त जिला के ट्रैक रूटों में ट्रैकिंग बंद कर दी है। उपायुक्त  लाहौल-स्पिति नीरज कुमार ने अधिसूचना जारी कर दी है।
 | 
 लाहुल स्पीति प्रशासन ने सर्दियों के मौसम को देखते हुए समस्त जिला के ट्रैक रूटों में ट्रैकिंग बंद कर दी है। उपायुक्त लाहुल स्पीति नीरज कुमार ने अधिसूचना जारी कर दी है।

केलांग। हिमालच प्रदेश के जनजातीय जिला लाहौल-स्पिति के ट्रैकिंग रूट बंद कर दिए गए हैं। ऐसे में आप अगर जनजातीय क्षेत्रों में ट्रैकिंग का प्लान बना रहे हैं तो सावधान हो जाएं। लाहौल-स्पिति प्रशासन ने सर्दियों के मौसम को देखते हुए समस्त जिला के ट्रैक रूटों में ट्रैकिंग बंद कर दी है। उपायुक्त लाहौल-स्पिति नीरज कुमार ने अधिसूचना जारी कर दी है। स्पिति के खमिंगर ग्लेशियर जैसी और घटना न घटे, इसके लिए प्रशासन सतर्क है। अचानक हो रही बर्फबारी को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने ट्रैकिंग पर रोक लगाई है। 

लाहौल-स्पिति व कुल्लू के लंबे ट्रैक रूटों में ही ट्रैकर अधिक ट्रैकिंग करते हैं। लंबे ट्रैक रूटों चंद्रताल से बारालाचा, दारचा से पदम, मयाड़ के कांगला ग्लेशियर से कारगिल-जंसकर, मनाली-हामटा से छतडू, मनाली-जगतसुख से गोरुपास-पीन पास-किन्नौर, मनाली से बड़ा भंगाल, पीन वैली से स्पीति व मनाली से हनुमान टिब्बा ट्रैक रुट शामिल है। मनाली के एक दो दिवसीय ट्रैक रूटों में ट्रैकिंग जारी रहेगी, जबकि कुल्लू के लंबे ट्रैक रूटों पर भी अब अगले साल ही ट्रैकिंग हो सकेगी।

उपायुक्त लाहौल-स्पिति नीरज कुमार ने कहा लाहुल स्पीति में सर्दियों ने दस्तक दे दी है। ऊंची चोटियों में अचानक होने वाली बर्फबारी ट्रैकरों पर भारी पड़ सकती है। ऐसी परिस्थिति में रेस्क्यू करना भी जोखिमभरा रहता है। ट्रैकरों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए लाहौल-स्पिति प्रशासन ने जिला के सभी ट्रैक रूट ट्रैकिंग के लिए बंद कर दिए हैं। अधिसूचना जारी कर ट्रैकिंग बंद करने के निर्देश दिए हैं। सभी ट्रैकरों से आग्रह है कि वह अब लाहौल-स्पिति  के ट्रैक रूटों में ट्रैकिंग के लिए न निकलें।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।