मंदिर को बंद करने के फैसले पर पुनर्विचार करे सरकार : व्यापार मंडल

हमीरपुर। व्यापार मंडल दियोटसिद्ध ने वीरवार को आपात बैठक की। बैठक में प्रदेश सरकार के मंदिर को बंद करने के निर्णय को वापस लेने की मांग की। व्यापार मंडल दियोटसिद्ध के प्रधान संजय कुमार की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में दर्जनों दुकानदार उपस्थित हुए। सभी दुकानदारों ने कहा कि सरकार के इस निर्णय से मंदिर
 | 
मंदिर को बंद करने के फैसले पर पुनर्विचार करे सरकार : व्यापार मंडल

हमीरपुर। व्यापार मंडल दियोटसिद्ध ने वीरवार को आपात बैठक की। बैठक में प्रदेश सरकार के मंदिर को बंद करने के निर्णय को वापस लेने की मांग की। व्यापार मंडल दियोटसिद्ध के प्रधान संजय कुमार की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में दर्जनों दुकानदार उपस्थित हुए। सभी दुकानदारों ने कहा कि सरकार के इस निर्णय से मंदिर पर आश्रित दुकानदारों को भूखे मरने की नौबत आ जाएगी। सैकड़ों परिवार सरकार के इस निर्णय से प्रभावित होंगे।

 

व्यापार मंडल के सदस्यों ने कहा कि पिछले साल उन्होंने लगभग पूरा साल ही लॉकडाउन को झेला है। मंदिर सबसे पहले बंद हुए थे तथा सबसे लेट खुले थे। इस कारण लगभग पूरा साल उन्होंने रोजी रोटी का संकट झेला है, लेकिन सरकार ने बिना किसी ठोस कारण से मंदिरों को एकदम से बंद करने का निर्णय लेकर फिर से सैकड़ों परिवारों को संकट में डाल दिया है। व्यापार मंडल ने मुख्यमंत्री से इस निर्णय पर पुनर्विचार करके इसे वापस लेने की मांग उठाई है।

 

यह भी पढेंः-हिमाचल में 20 की मौत; 1604 नए कोरोना संक्रमित, आज से मंदिर बंद
बीते साल भी आर्थिक संकट झेला

उन्होंने कहा कि पिछले साल हम सबने सरकार के निर्णयों पर सहयोग किया था तथा खुद आर्थिक संकट झेल लिया। इस बार इसे सहन करने की क्षमता किसी भी व्यापारी में नहीं बची है। व्यापारियों ने कहा कि वे पहले से ही मंदी की मार झेल रहे थे तथा अभी कुछ समय पहले कामकाज पटरी पर लौटने लगा था, लेकिन सरकार ने मंदिरों को बंद करने का निर्णय लेने से पहले एक बार भी यह नहीं सोचा कि मंदिरों पर आश्रित दुकानदार अपनी रोजी- रोटी कैसे चलाएंगे।


फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहांक्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमेंगूगल न्यूज पर फॉलो करें।