बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं अभियान के तहत आयोजित विभिन्न गतिविधियों से लिंगानुपात में हुई बढ़ौत्तरी : डीसी

बालिका दिवस मनाने का उद्देश्य बेटियों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करना ।  गरिमा व सम्बल योजना के तहत वितरित किए आर्थिक सहायता राशि के चैक । 
 | 
photo

ऊना ।   राष्ट्रीय बालिका दिवस के उपलक्ष्य पर आज जिला स्तरीय समारोह जिला कार्यक्रम अधिकारी के कांफ्रेंस हॉल में आयोजित किया गया। समारोह की अध्यक्षता उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने की। इस मौके पर राघव शर्मा ने कहा कि राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने का उद्देश्य बालिकाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करना है। देश में बालिका दिवस मनाने के पीछे सबसे बड़ा उद्देश्य लड़कियों को शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के प्रति जागरूक करना है। 

राघव शर्मा ने कहा कि वर्ष 2015 में बेटियों का लिंगानुपात कम होने के चलते जिला को बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं अभियान में जोड़ा गया था। अभियान के तहत विभिन्न गतिविधियां आयोजित की गई जिसमें लोगों को बेटियों के प्रति जागरूक किया गया। वर्तमान में बेटियों का लिंगानुपात 938 पहुंच गया है। देश में लिंगानुपात में समान्ता लाने के लिए तथा बेटियों की सुरक्षा और कन्याभू्रण हत्या को रोकने के उद्देश्य से राष्ट्रीय बालिका दिवस आयोजित किया जाता है ताकि अधिक से अधिक लोगों को बेटियों के प्रति जागरूक किया जा सके।
उपायुक्त ने बताया कि जिला में बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं अभियान के तहत विभिन्न गतिविधियां आयोजित की गई जिसके काफी सकारात्मक परिणाम देखने को मिले हैं। इसके लिए उन्होंने आंगनवाडी वर्कर, सुपरवाईज़र, हेल्पर व आईसीडीएस की पूरी टीम को बधाई दी। उन्होंने कहा कि जिला में विभिन्न योजनाओं के तहत बेटियों को उच्च शिक्षा प्रदान करने के लिए आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जा रही है। इसके अतिरिक्त बेटियों को गोद लेने वाले माता-पिता और महिला उद्यमियों को भी सम्मानित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में बेटियां शिक्षा व खेल के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों में काफी उत्कृष्ट प्रदर्शन कर माता-पिता के साथ-साथ समाज का नाम रोशन कर रही हैं। समाज में बेहतर परिवर्तन के लिए सभी को बेटा-बेटी के भेदभाव को खत्म करना होगा। 
इस अवसर पर गरिमा योजना और सम्बल योजना के तहत 4 लाख 57 हज़ार 571 रूपये की आर्थिक सहायता राशि के चैक वितरित किए गए जिसमें अद्विती शर्मा, रूहानी ठाकुर व एकता को 21-21 हज़ार रूपये के चैक प्रदान किए। आदर्श नगर की दीक्षा को सम्बल योजना के अंतर्गत नर्सिंग करने के लिए 1.17 लाख रूपये तथा बैहली मोहल्ला से प्राची को जीएनएम के लिए 51 हज़ार रूपये की आर्थिक सहायता राशि के चैक वितरित किए। मीनाक्षी को बैचलर ऑफ साईस (एंथ्रोपोलॉजी) में 36, 300 रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की गई।
मावां से कर्ण कुमार को सिविल इंजीनियरिंग के लिए 20, 017 रूपये की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की गई। पूजा रानी को बीए एलएलबी हेतू 33,300, तमन्ना को बीए करने के लिए 1,629, मानवी को बीसीए हेतू 6,825, नितिन को होटल मैंनेजमेंट के लिए 44,500 रूपये की आर्थिकी सहायता राशि के चैक वितरित किए गए। इसके अतिरिक्त बेटियों को गोद लेने वाले माता-पिता को बेटियों के नाम 21-21 हज़ार रूपये की एफडीआर के चैक वितरित किए गए। इसके अतिरिक्त उपायुक्त ने फूड कोर्ट चला रही महिला उद्यमी सपना देवी तथा ऑटो रिक्शा चलाने वाली वंदना राणा को भी सम्मानित किया। 
इस मौके पर एक बूटा बेटी के नाम योजना के तहत जिला कार्यक्रम कार्यालय परिसर में पौधारोपण भी किया गया। जिला कार्यक्रम अधिकारी सतनाम सिंह, सीडीपीओ ऊना कुलदीप सिंह, सीडीपीओ अंब विजय कुमार, सीडीपीओ गगरेट लक्ष्मण दास, सीडीपीओ हरोली पूनम चौहान, डीसीपीओ कमलदीप सिंह सहित सम्मानित किए गए बच्चों के अभिभावक व अन्य उपस्थित रहे।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहांक्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमेंगूगल न्यूज पर फॉलो करें।