हिमाचल उपचुनावः नामांकन वापस नहीं लेने पर चेतन बरागटा पार्टी से निष्कासित

पहले से ही कहा जा रहा था कि चेतन बरागटा नामांकन वापस नहीं लेंगे, लेकिन नहीं लिया और शाम होने पर उन्हें पार्टी से निकाल दिया है।

 | 
chetan bragta

हिमाचल प्रदेश में होने वाले उपचुनाव से पहले बड़ी खबर उभर कर सामने आई है। हिमाचल प्रदेश भाजपा ने पूर्व मंत्री नरेन्द्र बरागटा के बेटे चेतन बरागटा को पार्टी से निष्कासित कर दिया है। भाजपा ने चेतन को पार्टी लाइन के खिलाफ जाकर निर्दलीय नामांकन पत्र दाखिल करने और नामांकन वापिस ने लेने पर यह कार्रवाई की है। कहा जा रहा है कि उन्हें पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित किया गया है। 


हिमाचल भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप ने उन्हें पार्टी से निकाला है। हिमाचल भाजपा के कार्यालय सचिव प्यार सिंह ने निष्कासन के संबंध में आदेश जारी किए हैं। बता दें कि चेतन बरागटा भाजपा आईटी विभाग के प्रदेश संयोजक पद पर तैनात थे। आदेश में कहा गया है कि जुब्बल कोटखाई विधानसभा के हो रहे उपचुनाव पार्टी प्रत्याशी के विरूद्ध निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ने पर उन्हें निष्कासित किया गया है।


दरअसल, हिमाचल प्रदेश उपचुनाव में प्रत्‍याशियों के नाम वापसी का बुधवार को आखिरी दिन था। ऐसे में जुब्बल कोटखाई से भाजपा से बागी चेतन बरागटा पर सबकी नजरें टिकीं थी। सबके मन में यही सवाल था कि क्या चेतन बरागटा अपना नामांकन वापस लेंगे। हालांकि पहले से ही कहा जा रहा था कि चेतन बरागटा नामांकन वापस नहीं लेंगे। यही वजह है कि हिमाचल भाजपा हाईकमान ने शाम होने पर उन्हें पार्टी से निकाल दिया है।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।