मंदिर न्यास प्रशासन सभी शिक्षा संस्थान को चलाने में नाकामयाब - शिव ठाकुर

 अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने ज्ञापन पत्र देते हुए जिला प्रशासन, चकमोह महाविद्यालय प्रशासन व मंदिर न्यास प्रशासन से यह मांग रखी है कि चकमोह महाविद्यालय के अंदर खाली चल रहे शिक्षकों व गैर शिक्षक पदों पर शीघ्र भर्ती की जाए और भवन के अंदर सिक्योरिटी गार्ड की व्यवस्था की जाए।
 | 
.

बड़सर।  बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध न्यास द्वारा संचालित बाबा बालक नाथ महाविद्यालय चकमोह में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इकाई चकमोह के द्वारा कालेज प्रधानाचार्य के माध्यम से मंदिर न्यास प्रशासन को ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने मांग रखते हुए कहा कि चकमोह महाविद्यालय के अंदर शिक्षक व गैर शिक्षक पदों पर लंबे समय से खाली चल रहे हैं। इस मौके पर इकाई सचिव शिव ठाकुर ने कहा कि मंदिर न्यास प्रशासन के अंतर्गत आने वाले सभी शैक्षणिक संस्थानों को सुचारू रूप से चलाने में फिसड्डी साबित हो रहा है।



अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने ज्ञापन पत्र देते हुए जिला प्रशासन, चकमोह महाविद्यालय प्रशासन व मंदिर न्यास प्रशासन से यह मांग रखी है कि चकमोह महाविद्यालय के अंदर खाली चल रहे शिक्षकों व गैर शिक्षक पदों पर शीघ्र भर्ती की जाए और भवन के अंदर सिक्योरिटी गार्ड की व्यवस्था की जाए। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि महाविद्यालय के अंदर सफाई की व्यवस्था सुचारू रूप से की जाए, ताकि छात्रों को महाविद्यालय के अंदर किसी भी तरीके की समस्याओं का सामना न करना पड़े।

विद्यार्थी परिषद के सदस्यों ने कहा कि आए दिन मंदिर न्यास प्रशासन के द्वारा महाविद्यालय के गैर शिक्षक कर्मचारियों को मंदिर परिसर में व अन्य स्थानों पर अपनी ड्यूटी देने के लिए स्थानांतरित किया जाता है, जिसका विद्यार्थी परिषद इकाई विरोध करती है। अगर महाविद्यालय अन्य शिक्षण संस्थानों से इसी तरीके से कर्मचारियों को ड्यूटी लगाई जा रही है, जिस कारण शैक्षणिक संस्थानों के अंदर शिक्षा की गुणवत्ता पर असर देखने को मिल रहा है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने कहा कि मंदिर न्यास प्रशासन के अंतर्गत चलने वाले सभी शिक्षण संस्थानों के अंदर किसी भी तरीके की कोताही बर्दाश्त नहीं करेगी। अगर ऐसा चलता रहा तो विद्यार्थी परिषद को मजबूरन आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ेगा।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।