कला संकाय में केवल कला संकाय शिक्षकों को करें प्रमोट : संघ

देश के 22 राज्यों की तर्ज़ पर पीजीटी कला में प्रमोट हों केवल टीजीटी कला,   

संघ के कांगड़ा जिला के अध्यक्ष संजय चौधरी ने कहा कि शिक्षा विभाग में टीजीटी कला को पदोन्नति के लिए तरस रहे हैं और टीजीटी कला शिक्षकों को मिडल स्कूलों में हेडमास्टर  बनाने , सामाजिक अध्ययन पर्यवेक्षक बनाने , हेडमास्टर में अधिकतम कोटा देने, सीधे पदोन्नति हेतु व्यवस्था करने के बारे में गंभीरता से कार्य प्रदेश सरकार को करना चाहिए ।

 | 
.

हमीरपुर ।  शिक्षा में गुणवत्ता लाने के लिए अगर नई शिक्षा नीति में सफलता हासिल करनी है तो शिक्षकों की भर्ती पदोन्नति प्रक्रिया को गुणात्मक बनाया जाए । वर्तमान में प्रवक्ता स्कूल न्यू कला संकाय में सभी संकाय के शिक्षक प्रमोट हो जाते हैं और गुणात्मक शिक्षा का सपना चकनाचूर हो जाता है । ऐसे में गुणात्मक शिक्षा हेतु कला संकाय में केवल टीजीटी कला शिक्षकों को प्रमोट किया जाए । देश के 22 राज्यों में पीजीटी कला संकाय में टीजीटी कला को ही प्रमोट किया जा रहा है क्योंकि जिस विषय में टीजीटी शिक्षक ने एक दिन भी शिक्षण कार्य नहीं किया है और जिस टीजीटी शिक्षक ने इंटरमीडिएट से लेकर स्नातक और बीएड0 में एक भी दिन भी कला संकाय के विषय न पढ़े हैं और न पढ़ाए हैं , उनको सीधे प्रवक्ता प्रमोट किया जाना गुणात्मक शिक्षा के लिए हानिकारक है ।  

ऐसे में जिस विषय में न्यूनतम 3 से 5 वर्ष शिक्षण अनुभव बतौर टीजीटी अनिवार्य किया जाए । यह बात आज ज्वाली में टीजीटी कला संघ प्रदेश महासचिव विजय हीर ने ये बात कही । हीर ने कहा कि शिक्षा विभाग में टीजीटी कला संकाय के लिए तय प्रमोशन के पदों पर जो पदोन्नति सूचियाँ जारी हो रही हैं , उनमें टीजीटी कला नाममात्र ही हैं और शेष संकायों के शिक्षक उन पदों पर प्रमोट हो रहे हैं जिन पर वैधानिक आशा टीजीटी कला की प्रमोट होने की है । 43 प्रतिशत प्रवक्ता स्कूल न्यू के पदों पर टीजीटी कला हेतु पदोन्नति के अवसर भर्ती पदोन्नति नियमों के तहत देय नहीं है और शेष 57 प्रतिशत प्रवक्ता कला संकाय के पद हेतु टीजीटी मेडिकल ,  नॉन-मेडिकल और कॉमर्स वाले भी पात्र हैं। जिसके चलते टीजीटी कला को 15 से 20 प्रतिशत पदों पर ही प्रमोशन मिल रही है जो कि टीजीटी कला शिक्षकों के हितों से खिलवाड़ है ।

संघ के कांगड़ा जिला के अध्यक्ष संजय चौधरी ने कहा कि शिक्षा विभाग में टीजीटी कला को पदोन्नति के लिए तरस रहे हैं और टीजीटी कला शिक्षकों को मिडल स्कूलों में हेडमास्टर  बनाने , सामाजिक अध्ययन पर्यवेक्षक बनाने, हेडमास्टर में अधिकतम कोटा देने, सीधे पदोन्नति हेतु व्यवस्था करने के बारे में गंभीरता से कार्य प्रदेश सरकार को करना चाहिए।  ज्वाली खंड के शिक्षकों ने  विजय हीर और संजय चौधरी को संघ की बेहतरी हेतु सम्मानित किया । सुरेश कौंडल,  कुलवीर सिंह और पृथ्वी पाल ने कहा कि टीजीटी कला संघ को नई दिशा और ऊर्जा  विजय हीर ने दी है और ज्वाली में पहली बार बनी संघ की इकाई ।

ज्वाली खंड के प्रधान बने सुरेश कौंडल 

.

कांगड़ा जिला के ज्वाली खंड के चुनावों में पर्यवेक्षक कुलवीर सिंह, संघ प्रदेश महासचिव विजय हीर और कांगड़ा इकाई अध्यक्ष संजय चौधरी ने आज ज्वाली सीनियर सकेंडरी में खंड स्तरीय चुनाव करवाए जिसमें सुरेश कौंडल को अध्यक्ष , बलवीर धीमाना वरिष्ठ -उपाध्यक्ष ,सपना चौधरी को प्रबंधन सचिव, अनिल चौधरी को उपाध्यक्ष  नीमल चिब , जीत सिंह कोषाध्यक्ष , राजेश पगरोत्रा को महासचिव और राजेश धीमानऑडिटर , सपना प्रबंधन सचिव सह-सचिव परमानंद , अनिल कुमार को खंड समन्वयक , जितेंद्र चौधरी को कपिल मैहरा को मीडिया प्रभारी, सुरेखा और बलवंत को वरिष्ठ सलाहकार  और 4 सदस्यों जिला डेलीगेट बनाया गया ।  

 

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।