हमीरपुर के इस हैल्थ सब-सेंटर का स्वास्थ्य खराब, दो साल से लटके हैं ताले

 नादौन ब्लॉक के तहत आने वाली ग्राम पंचायत जंगलरोपा में हैल्थ सब-सेंटर जंगलरोपा दो साल से सुनसान पड़ा है। यह वैक्सीनेशन के दिन ही स्टाफ आता है अन्य दिनों ताले लटके रहते हैं।
 | 
जंगल रोपा

हमीरपुर। नादौन ब्लॉक के तहत आने वाली ग्राम पंचायत जंगलरोपा में हैल्थ सब-सेंटर जंगलरोपा दो साल से सुनसान पड़ा है। इस स्वास्थ्य उपकेंद्र की सुविधा लोगों को नहीं मिल पा रही है। स्टाफ की कमी के कारण यहां पर कोई भी स्वास्थ्य कर्मी तैनात नहीं है। इस कारण क्षेत्र के लोगों को उपचार के लिए दूरदराज क्षेत्रों में जाना पड़ता है। बताते चलें कि हैल्थ सब सेंटर जंगलरोपा के तहत करीब आधा दर्जन गांव आते हैं। बकारटी, बाडला, कुसवाड़, घनोटला, लोहारड़ा आदि गांवों के लोग इस उपकेंद्र की सेवाएं ले रहे थे।

दो साल पहले यहां तैनात कर्मी के सेवानिवृत्त हो जाने के उपरांत यहां पर नई तैनाती नहीं की गई है। हालांकि यहां पर स्टाफ के लिए रेजिडेंस का भी प्रबंध है। अनदेखी के चलते अब यह हैल्थ सब-सेंटर खंडहर में तबदील होता जा रहा है। महज वैक्सीनेशन के लिए ही स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी यहां पहुंचते हैं। उसके बाद फिर इस पर ताला लटक जाता है। ग्रामीणों से प्राप्त जानकारी अनुसार पहले इस हैल्थ सब-सेंटर की बेहतर सेवाएं क्षेत्र के लोगों को मिल रही थीं। यहां पर कर्मचारी तैनात होने के कारण लोगों को नजदीक में ही स्वास्थ्य लाभ मिल रहा था। 

ग्राम पंचायत जंगलरोपा के प्रधान अश्वनी ठाकुर ने बताया कि पहले इस हैल्थ सब-सेंटर की बेहतर सेवाएं लोगों को मिल रही थीं। दो साल से इसकी सेवाएं नहीं मिल पा रही है। सरकार से मांग की है कि यहां पर कर्मचारी की तैनाती की जाए, जिससे लोगों को क्षेत्र में ही स्वास्थ्य लाभ की सुविधा मिल सके।  उधर, डॉ. आरके अग्निहोत्री ने कहा कि जंगलरोपा हैल्थ सब सेंटर में कर्मचारी न होने के बारे में सरकार को अवगत करवाया जा चुका है।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।