स्कूल सेफ्टी के लिए उपयुक्त बजट दे सरकार : टीजीटी कला संघ

 प्रदेश में स्कूलों की सुरक्षा हेतु बाकायदा स्कूल सेफ्टी ऑडिट करवाने के आदेश जारी किए हैं। ऑडिट ने सामने आ रही कमियों को दूर करने के लिए स्कूलों को आवश्यक अनुदान प्रदान किया जाए ।

 | 
.
हमीरपुर । सुप्रीम कोर्ट द्वारा स्कूलों की सुरक्षा के मामलों की निगरानी की जा रही है । प्रदेश में स्कूलों की सुरक्षा हेतु बाकायदा स्कूल सेफ्टी ऑडिट करवाने के आदेश जारी किए गए हैं। ऐसे में ऑडिट ने सामने आ रही कमियों को दूर करने के लिए स्कूलों को आवश्यक अनुदान प्रदान किया जाए । यह मांग राजकीय टीजीटी कला संघ प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कौशल, महासचिव विजय हीर व संघ की समस्त कार्यकारिणी ने प्रदेश सराकर से की है ।
संघ महासचिव विजय हीर ने कहा कि स्कूलों में सुरक्षा हेतु यह ऑडिट दो तरह से होगा। पहला संरचनात्मक और दूसरा गैर- संरचनात्मक। स्कूलों के संरचनात्मक ऑडिट में यह देखा जाएगा कि स्कूल का जो भवन है वह कितना मजबूत है। प्राकृतिक आपदा जैसे भूकंप, आग, बाढ़ इत्यादि के लिए स्कूल भवन की नींव कितनी मजबूत है। स्कूल भवन की छत्त में लकड़ी का जो प्रयोग किया गया है ,वह पुरानी तो नहीं हो चुकी है। इसमें सुधार के लिए क्या कार्य किए जा सकते हैं। भवन की दीवार को मजबूती देने के लिए क्या करना चाहिए।गैर-संरचनात्मक ऑडिट में यह जांचा जाएगा कि स्कूल भवन में फेंसिंग है या नहीं, जो जंगले लगे हैं वह पुराने व गिरने की स्थिति में तो नहीं है। स्कूल में कोई ऐसा स्थान तो नहीं है जो खतरे को न्योता दे रहा हो। इन सभी चीजों को देखा जाएगा।
जिला उपनिदेशकों ने स्कूलों को निर्देश दिए हैं कि वह राज्य लोक निर्माण विभाग के इंजीनियरों से संपर्क साधकर यह आडिट करवाएंगे। आडिट करवाने के बाद स्कूल सेफ्टी का सर्टिफिकेट भी उक्त अधिकारी से लेंगे। संघ ने कहा कि ऑडिट प्रक्रिया की रिपोर्ट को जिला प्रशासन, शिक्षा विभाग और डाइट द्वारा विश्लेषण करने के बाद सम्बंधित स्कूलों को बजट देने की योजना बनानी चाहिए जिसे वार्षिक योजना में शामिल किया जाए, अन्यथा इस ऑडिट की प्रक्रिया का लाभ स्कूलों को नहीं मिलेगा । 
शिक्षा बोर्ड को सौंपे सुझाव
 
शिक्षा बोर्ड धर्मशाला में आयोजित कार्यशाला में टर्म परीक्षाओं के संदर्भ में राजकीय टीजीटी कला संघ ने 11 सूत्रीय सुझाव दिए गए । इसका प्रतिवेदन संघ महासचिव विजय हीर ने संघ की ओर से शिक्षा बोर्ड और अन्य संघों से सांझा किया। संघ ने नई शिक्षा नीति को लागू करते हुए परीक्षा पद्धति सरल बनाने व नए प्रयोग सत्र के शुरू और निर्देश से अधिसूचित करने की बात कही। एफए 1 के कक्षा 3 से 5 के अंक 25 तय हैं या 15, ये स्पष्ट करने हेतु कहा गया और कक्षा 3,5,8 का टर्म 2 का पेपर भी आधे पाठ्यक्रम से डालने की अपील की गई ।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।