TGT कैडर को भी दें स्पेशल इंक्रीमेंट के लाभ : संघ

हिमाचल प्रदेश में कार्यरत टीजीटी आर्ट्स शिक्षकों को न पदोन्नति नसीब हो रही,  न मिल रहे वित्तीय लाभ,  

 | 
.

हमीरपुर।   हिमाचल प्रदेश में कार्यरत टीजीटी आर्ट्स (TGT Arts) शिक्षकों को 20 से 25 साल सेवाकाल में एक भी प्रमोशन (Promotion) नहीं मिल रही। जिस सुस्त गति से टीजीटी (TGT) कला शिक्षक प्रमोट किए जा रहे हैं, हजारों टीजीटी (TGT) बिना प्रमोशन (Promotion) ही रिटायर होंगे। आलम ये हैं कि टीजीटी (TGT) कला शिक्षकों को हेडमास्टर (Headmaster) पदोन्नति के लिए भी दशकों इंतज़ार करना पड़ रहा है। अनेकों शिक्षकों की नियुक्ति बैचवाईज़ देरी से होने के चलते वे बिना पदोन्नति रिटायर हो गए और अनेकों ऐसे शिक्षक अगले तीन साल में सेवानिवृत्त होने वाले हैं। 

विडम्बना ये है कि इन शिक्षकों को बीस साल सेवाकाल पर वे स्पेशल दो इंक्रीमेंट्स का लाभ नहीं मिलता तो सी एंड वी कैडर को मिलता है। इस तरह शिक्षकों को न पदोन्नति नसीब हो रही है और न ही वित्तीय लाभ मिल रहे । यह लाभ टीजीटी (TGT) कैडर को देने की मांग टीजीटी कला संघ अध्यक्ष सुरेश कौशल, महासचिव विजय हीर और पूरी कार्यकारिणी ने सरकार से उठाई है । संघ के अनुसार पंजाब की तर्ज़ पर जनवरी  2016 से देय  वेतन आयोग लाभ की प्रतीक्षा करते हुए प्रदेश के 300 से अधिक टीजीटी सेवानिवृत्त हो चुके हैं । इस तरह उनको टीजीटी (TGT) पोस्ट का बढ़ा हुआ वेतन भी नहीं मिल सका।

टीजीटी (TGT) से प्रवक्ता पदोन्नति की राह तो उनके लिए खुली है मगर वहाँ नाममात्र पड़ रिक्त हैं । कहने को टीजीटी (TGT) से प्रवक्ता पदोन्नति होती है,  मगर एसएमसी (SMC) आधार पर 693 पद भी उनके लिए उपलब्ध नहीं हैं । प्रवक्ता कंप्यूटर साईन्स के 861 पद, गणित के 19, रसायन शास्त्र के 5, कॉमर्स के 55 पद रिक्त हैं,  मगर इनके लिए टीजीटी (TGT) कला शिक्षक पात्र नहीं हैं । जुलाई  2021 में हिन्दी विषय में 91, इतिहास में 91, राजनीति विज्ञान में 71 पद रिक्त थे मगर ये पद भी कमीशन से भरे जा रहे हैं व अनेकों पद भर चुके हैं । शिक्षा विभाग पदोन्नति के लिए पैनल भी मार्च  2022 तक बनाएगा ।

यह भी पढ़ेंः-   कोरोना टीका लगा नहीं, जारी कर दिया Covid-19 डबल डोज का सर्टिफिकेट

ऐसे में वे शिक्षक हताश हैं जिनकी प्रमोशन (Promotion) पिछले चार पैनल में नाम होने पर भी न हो सकी है। कभी पदोन्नति के लिए पद नहीं मिलते तो कभी पदोन्नति प्रक्रिया की कछुया चाल प्रमोशन (Promotion) होने नहीं देती। संघ ने सरकार से अपील की है कि अगर पदोन्नति अवसर समय पर नहीं मिल रहे तो 10 साल सेवाकाल पर एक और 20 साल सेवाकाल पर दूसरी विशेष इंक्रीमेंट देने का प्रावधान किया जाए,  जबकि 4-9-14 के छीने गए लाभ बहाल हों । संघ ने पंजाब के बठिंडा में हुए वेतन आयोग संबंधी विशाल रैली का समर्थन किया है,  क्योंकि पंजाब वेतन आयोग को स्पष्ट व सही तरीके से लागू करने में पंजाब सरकार 5 साल विफल रही है। 

 

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहांक्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमेंगूगल न्यूज पर फॉलो करें।