हुनरमंद लोगों को जिला प्रशासन उपलब्ध करवाएगा ऑनलाइन प्लेटफार्म

हुनरमंद युवाओं को रोजगार और उपभोक्ताओं को सेवाएं घरद्वार, साझा’ ऐप के माध्यम से उपभोक्ताओं को घरद्वार पर ही मिलेंगी स्किल्ड वर्कर्स की सेवाएं, पूरे जिले में पायलट आधार पर शुरू की जा रही हैं विभिन्न सेवाएं 

 | 
.

हमीरपुर ।   इलेक्ट्रिशियन, प्लंबर, कारपेंटर, मैकेनिक का छोटा-मोटा कार्य हो या फिर मिस्त्री, बार्बर, ग्रूमिंग सर्विस और ब्यूटीशियन की सेवाएं अथवा अन्य सेवाएं। इन सभी महत्वपूर्ण सेवाओं से संबंधित हुनरमंद एवं स्किल्ड युवाओं के लिए जिला प्रशासन ‘साझा’ ऐप (सेवा आपके आंगन, जीविका और हुनर को आमंत्रण) के माध्यम से ऑनलाइन प्लेटफार्म उपलब्ध करवाने जा रहा है। इसके लिए कॉमन सर्विस सेंटर संचालित करने वाली संस्था सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड के ग्रामीण ई-स्टोर ऐप की मदद ली जा रही है। उपायुक्त देबश्वेता बनिक की इस पहल को अमलीजामा पहनाने के लिए तीव्र प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि ये सेवाएं पूरे जिले में पायलट आधार पर शुरू की जा रही है।


  कोरोना संकट के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए मंत्र ‘आपदा में अवसर’ को मूर्त रूप देने की दिशा में जिला प्रशासन की इस पहल से जहां दक्ष युवाओं के लिए स्वरोजगार के अधिक से अधिक अवसर मिलेंगे, वहीं आम उपभोक्ताओं को भी घरद्वार पर बेहतर सेवाएं उपलब्ध होंगी। विशेषकर, घर में अकेले रह रहे बुजुर्गों और किन्हीं कारणों से घर निकलने में असमर्थ लोगों के लिए साझा ऐप काफी मददगार साबित होगा। क्योंकि, सेवा प्रदाता निर्धारित समय अवधि के भीतर उपभोक्ता को घरद्वार पर अपनी सेवाएं प्रदान करेगा।


   उपायुक्त ने बताया कि कोरोना संकट के दौरान हमीरपुर जिला में भी आम लोगों को अपनी आम दिनचर्या में विभिन्न सेवाओं के संबंध में कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था। न तो वे अधिक समय तक घर से बाहर निकल पा रहे थे और न ही घर के छोटे-मोटे कार्य करवा पा रहे थे। उन्हें बिजली उपकरणों एवं लाईनों, पानी, गाडिय़ों और अन्य रिपेयर वक्र्स के लिए स्किल्ड सेवा प्रदाता उपलब्ध नहीं हो पा रहे थे। ऐसे दक्ष लोगों से संपर्क ही नहीं हो पा रहा था। देबश्वेता बनिक ने बताया कि आम लोगों की इन समस्याओं को देखते हुए जिला प्रशासन ने सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड के साथ संपर्क करके इस विषय पर गहनता से विचार किया और लोगों को घर पर ही हुनरमंद लोगों के माध्यम से सेवाएं प्रदान करने की दिशा में कार्य करने का बीड़ा उठाया।


  उपायुक्त ने बताया कि जिला प्रशासन सीएससी ग्रामीण ई-स्टोर ऐप के माध्यम से लोगों को घरद्वार पर ही सेवाएं प्रदान करने तथा स्किल्ड युवाओं को स्वरोजगार के लिए मंच प्रदान करने की दिशा में विशेष पहल कर रहा है। इसके लिए ग्रामीण ई-स्टोर ऐप में विशेष फीचर्स विकसित किए जा रहे हैं। उपायुक्त ने बताया कि ‘साझा’ ऐप में निर्धारित सेवाओं के लिए उपभोक्ता अपनी जीपीएस लोकेशन के आधार पर ऑनलाइन संपर्क करेगा। ऑनलाइन संपर्क करते ही उपभोक्ताओं को अपने नजदीकी सेवा प्रदाता की जानकारी उपलब्ध हो जाएगी तथा वह सेवा प्रदाता उपलब्धता के आधार पर निर्धारित अवधि के भीतर उपभोक्ता के घर पहुंच जाएगा।


स्किल्ड युवाओं के लिए आयोजित की जाएगी कार्यशाला


उपायुक्त ने बताया कि दर्शाए गए विभिन्न टे्रडों में सेवाएं प्रदान करने के इच्छुक दक्ष एवं हुनरमंद युवाओं के लिए इस माह के अंत तक दो कार्यशालाएं आयोजित की जाएंगी। साझा ऐप में अपना पंजीकरण करवाने के इच्छुक हुनरमंद लोगों के पंजीकरण के लिए एक प्रपत्र तैयार किया गया है। यह प्रपत्र जिला प्रशासन की वेबसाइट एचपीहमीरपुर डॉट एनआईसी डॉट इन पर उपलब्ध करवाया जा रहा है। सेवाएं प्रदान करने के इच्छुक हुनरमंद लोग प्रपत्र को डाउनलोड करके तथा इसे भरकर उपायुक्त कार्यालय परिसर में स्थित हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम के कार्यालय में किसी भी कार्यदिवस में आकर जमा करवा सकते है।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।