नादौन में शुरू हुई आल इंडिया रिवर राफ्टिंग मैराथन सीरीज, राकेश पठानिया ने किया उदघाटन

 

हिमाचल प्रदेश के पूर्ण राज्यत्व के स्वर्णिम जयंती वर्ष के उपलक्ष्य पर पर्यटन विभाग, द इंडियन राफ्टिंग फाउंडेशन और जिला प्रशासन के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित की जा रही आल इंडिया रिवर राफ्टिंग मैराथन सीरीज सोमवार को आरंभ हो गई

इस प्रतियोगिता में थल सेना, वायु सेना, सीमा सुरक्षा बल, भारत तिब्बत सीमा पुलिस सहित देश भर से 28 टीमें भाग ले रहीं हैं,  इनमें 5 महिला टीमें भी शामिल हैं।

 | 
.

 हमीरपुर ।   हिमाचल प्रदेश के पूर्ण राज्यत्व के स्वर्णिम जयंती वर्ष के उपलक्ष्य पर पर्यटन विभाग, द इंडियन राफ्टिंग फाउंडेशन और जिला प्रशासन के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित की जा रही आल इंडिया रिवर राफ्टिंग मैराथन सीरीज सोमवार को आरंभ हो गई। वन, खेल एवं युवा सेवाएं मंत्री राकेश पठानिया ने नादौन के ब्यास नदी के पत्तन पर हरी झंडी दिखाकर प्रतियोगिता का विधिवत रूप से शुभारंभ किया। 8 अक्तूबर तक चलने वाली इस प्रतियोगिता में थल सेना, वायु सेना, सीमा सुरक्षा बल, भारत तिब्बत सीमा पुलिस सहित देश भर से 28 टीमें भाग ले रहीं हैं। इनमें 5 महिला टीमें भी शामिल हैं।


    इस अवसर पर सभी प्रतिभागियों को शुभकामनाएं देते हुए राकेश पठानिया ने कहा कि वल्र्ड राफ्टिंग फेडरेशन की मान्यता से भारत में यह पहली प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है, जोकि नादौन ही नहीं, बल्कि पूरे प्रदेश के लिए गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि नादौन के आस-पास ब्यास नदी का बहाव रिवर राफ्टिंग जैसे साहसिक खेल के लिए बहुत ही उपयुक्त है और आने वाले समय में यह क्षेत्र विश्व मानचित्र पर एक बड़ी राफ्टिंग साइट के रूप में उभर कर सामने आएगा। प्रदेश सरकार ने इस दिशा में प्रयास शुरू कर दिए हैं और इसके लिए आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करवाने हेतु 35 लाख रुपये की धनराशि स्वीकृत की गई है। आने वाले समय में यहां एशियन चैंपियनशिप के आयोजन के भी प्रयास किए जाएंगे।


  राकेश पठानिया ने कहा कि नादौन में वाटर स्पोट्र्स की अपार संभावनाएं हैं। रिवर राफ्टिंग जैसे साहसिक खेलों को बढ़ावा देने के लिए नादौन में अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण एवं संबंधित खेल संस्थान के माध्यम से प्रशिक्षण संस्थान स्थापित करने के प्रयास किए जाएंगे, ताकि अधिक से अधिक पर्यटकों को यहां आकर्षित किया जा सके तथा स्थानीय युवाओं को स्वरोजगार के साधन विकसित हो सके। साहसिक खेलों में रुचि रखने वाले युवा इसे कैरियर के रूप में भी अपना सकेंगे।

.


 प्रतियोगिता के आयोजन के लिए पर्यटन विभाग, द इंडियन राफ्टिंग फाउंडेशन और जिला प्रशासन की सराहना करते हुए राकेश पठानिया ने कहा कि इसमें अंतर्राष्ट्रीय नियमों, सभी सुरक्षा मानकों और कोरोना प्रोटोकॉल की अनुपालना सुनिश्चित की गई है। उन्होंनेे कहा कि कोरोना के विरुद्ध लड़ाई और वैक्सीनेशन में हिमाचल प्रदेश ने बहुत ही सराहनीय कार्य किया है। कोरोना रोधी वैक्सीनेशन में प्रदेश ने देश भर में पहला स्थान हासिल किया है। उन्होंने सभी लोगों से कोरोना संबंधी सभी नियमों एवं सावधानियों की अनुपालना करने का आग्रह भी किया।
  इस अवसर पर एचआरटीसी के उपाध्यक्ष विजय अग्रिहोत्री ने कहा कि रिवर राफ्टिंग प्रतियोगिता का आयोजन नादौन क्षेत्र के युवाओं के लिए रोजगार के नए द्वार खोलेगा। क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए लगभग 8 करोड़ रुपये का एक व्यापक प्रस्ताव सरकार को भेजा गया है। उन्होंने बताया कि धौलासिद्ध जलविद्युत परियोजना और मेडिकल कालेज सहित नादौन विस क्षेत्र में इस समय लगभग दो हजार करोड़ रुपये के विकास कार्य आरंभ किए गए हैं।


 इस अवसर पर उपायुक्त देबश्वेता बनिक ने मुख्य अतिथि, अन्य अतिथियों तथा सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया और प्रतियोगिता के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि नादौन में रिवर राफ्टिंग को बढ़ावा देने के लिए पत्तन के आस-पास विभिन्न विकास कार्यों के लिए धनराशि का प्रावधान किया गया है तथा क्षेत्र के लगभग 100 युवाओं को रिवर राफ्टिंग का प्रशिक्षण दिया गया है। इनमें लगभग 30 लड़कियां भी शामिल हैं।

.


  उदघाटन समारोह में द इंडियन राफ्टिंग फाउंडेशन के अध्यक्ष शौकत पाल सिंह सिकंद ने प्रतियोगिता से संबंधित नियमों एवं प्रबंधों से अवगत करवाया। कार्यक्रम में लघु बचत बोर्ड के उपाध्यक्ष संजय गुलेरिया, कौशल विकास निगम के समन्वयक नवीन शर्मा, बाल अधिकार आयोग की अध्यक्ष वंदना योगी, हुकम सिंह बैंस, सुनील शर्मा, पवन शर्मा, तरुण कपिल, योगराज, एसपी डॉ. आकृति शर्मा, पर्यटन विभाग के अतिरिक्त निदेशक मनोज शर्मा, जिला पर्यटन विकास अधिकारी रवि धीमान और अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।  

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।