एनएसयूआई इकाई बड़सर ने कॉलेज प्रिंसिपल को सौंपा ज्ञापन

राजकीय महाविद्यालय बड़सर के पॉलिटिकल साइंस, इंग्लिश व हिस्ट्री के 3 प्रवक्ताओं को हफ्ते में 2 दिनों के लिए राजकीय महाविद्यालय गलोड में  डेपुटेशन पर लगा दिया है। जिसका विरोध एनएसयूआई पुरजोर तरीके से कर रही है।
 | 
एनएसयूआई इकाई बड़सर ने कॉलेज प्रिंसिपल को ज्ञापन सौंपा

बड़सर ।  राजकीय महाविद्यालय बड़सर में एनएसयूआई इकाई बड़सर के कार्यकर्ताओं ने प्रिंसिपल को 3 प्रवक्ताओं के डेपुटेशन रुकाने पर ज्ञापन सौंपा। हाल ही में गलोड क्षेत्र में सरकार ने महाविद्यालय खोलने की अधिसूचना जारी की थी व साथ ही साथ कक्षाएं चलाने की भी अधिसूचना जारी कर दी थी। लेकिन शिक्षकों के पदों के स्वीकृत नहीं किया था। इसी में राजकीय महाविद्यालय बड़सर के पॉलिटिकल साइंस, इंग्लिश व हिस्ट्री के 3 प्रवक्ताओं को हफ्ते में 2 दिनों के लिए राजकीय महाविद्यालय गलोड में  डेपुटेशन पर लगा दिया है। जिसका विरोध एनएसयूआई पुरजोर तरीके से कर रही है।

एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने राजकीय महाविद्यालय बड़सर के प्रिंसिपल को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर यह डेपुटेशन नहीं रोका गया तो महाविद्यालय बड़सर में प्रवक्ताओं के डेपुटेशन को रोकने के लिए धरने दिया जाएगा। एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने कहा कि जब सरकार ने 2017 में बड़सर को अपग्रेड कर कर एम.ए हिस्ट्री व एम कॉम की कक्षाएं शुरू करने की अधिसूचना जारी की थी। लेकिन उसके बाद अब तक यह कक्षाएं नहीं चल सकी ।

बार बार सरकार इस पर तर्क देती है एवं प्रशासन तर्क देता है कि जब तक पद स्वीकृत नहीं होंगे,  तब तक कक्षाएं नहीं शुरू हो पाएंगे। एमए हिस्ट्री व एम कॉम की कक्षाएं चलाने के लिए उस समय डेपुटेशन क्यों नहीं किया गया। एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने कॉलेज प्रशासन ेस मांग की है कि  डेपुटेशन पर प्रवक्ताओं को न भेजा जाए अन्यथा एनएसयूआई इकाई धरना प्रदर्शन करने से गुरेज नहीं करेगी।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहांक्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमेंगूगल न्यूज पर फॉलो करें।