भाषा एवं संस्कृति विभाग द्वारा राजभाषा हिन्दी पखवाड़ा समारोह के अंतर्गत कवि सम्मलेन एवं लेखक गोष्ठी आयोजित

जिला हमीरपुर के वरिष्ठ लेखकों एवं नवोदित कवियों द्वारा रचनाएं प्रस्तुत की गई। यह कार्यक्रम सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य एवं वरिष्ठ साहित्यकार डा. सुशील गौतम की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ।
 | 
...

हमीरपुर  ।   भाषा एवं संस्कृति विभाग हिन्दी के संरक्षण एवं संवर्धन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। भाषा एवं संस्कृति विभाग हमीरपुर द्वारा राजभाषा हिन्दी पखवाड़ा के अवसर पर कवि सम्मलेन एवं लेखक गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जिला हमीरपुर के वरिष्ठ लेखकों एवं नवोदित कवियों द्वारा रचनाएं प्रस्तुत की गई। यह कार्यक्रम सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य एवं वरिष्ठ साहित्यकार डा. सुशील गौतम की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ।


नवोदित कवियत्री रिशिका ने ‘ सिंहनी की कोख से पैदा हुआ मैं शेर हूँ ... कविता से कार्यक्रम में वीर रस का संचार कर दिया वहीं वरिष्ठ लेखिका ‘तब भारत आजाद हुआ... कविता से आजादी का अमृत महोत्सव का महत्त्व समझाया। वरिष्ठ साहित्यकार लाल चंद ठाकुर ने ‘न्याय में विलम्ब ही अपराध का स्तम्भ है .. नामक कविता प्रस्तुत की वहीँ दिनाक्षी ने ‘हिन्दी मेरे भारत का अभिमान... कविता प्रस्तुत की।

कार्यक्रम में डा. अजीत दीवान, मनोहर लाल, राजेश चौहान, राकेश कुमार, भव्या लता, आदर्श, ऋतिक, शुभम, वंशिका, ज्योत्स्ना, राकेश कुमार इत्यादि वरिष्ठ एवं नवोदित कवियों ने अपनी रचनाएं पढ़ी।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहांक्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमेंगूगल न्यूज पर फॉलो करें।