करोड़ो खर्च करने के बाबजूद बड़सर क्षेत्र के लोग प्यासे

हर घर नल हर घर जल योजना धरातल पर तोड़ चुकी दम, लोग टैंकर से बुझा रहे प्यास
 | 
MLA Barsar Inder Dutt Lakhanpal

हमीरपुर  ।  भाजपा सरकार की हर घर नल हर घर जल  योजना पर करोड़ों रूपये खर्च होने  बाबजूद भी लोग पानी की बूंद बूंद को तरस रहे है। आलम यह है कि भाजपा की इस योजना के तहत घरों में नल तो लगे, लेकिन उनमें जल  की एक बूंद तक नहीं टपकी है। हालांकि भाजपा हर मंच से इस योजना के तहत 18 लाख नल लगाने के अलाप अल्प रही है। लेकिन सच्चाई यह है कि धरातल पर आज भी लोगों को पानी की बूंद बूंद के लिए मोहताज होना पड़ रहा है।

ऐसा की वाक्य बड़सर विधानसभा क्षेत्र में देखने को मिल रहा है। बड़सर के दर्जनों गांव ऐसे है जिनमें आठ से दस दिनों के बाद पानी की आपूर्ति हो पा रही है। ग्रामीणों को अपने काम काज को छोड़ आज भी पानी की तलाश में भटकने को मजबूर होना पड़ रहा है। सरकार ने हर घर नल हर घर जल की योजना पर करोड़ फूंकडाले। लेकिन इस योजना के तहत लगाए गए नलों में पानी कहां से आएगा, इस पर कोई काम नहीं किया। इस योजना के तहत बनाये गए दर्जनों  स्टोरेज टैंक ऐसे है जिन्हें अभी कनेक्शन तक नहीं दिया गया है। यही कारण है कि भाजपा सरकार की ये योजना धरातल पर उतरने से पहले ही हवा हवाई हो गई है।

उपमंडल बड़सर के दर्जनों गांव गुजरेड़ा, चंगर, टांगर, सुलहाड़ी, बिझड़ी, तरोपका, चलैली,  महाराल, ठौ, जटा घरयाणी सहित अन्य कई ऐसे गांव है जहां जलशक्ति विभाग पर्याप्त पानी मुहैया करवाने में असमर्थ साबित हुआ है।  क्षेत्र में भरपूर बारिश होने के बाबजूद सरकार व जलशक्ति विभाग कई लापरवाही के कारण लोगों को पानी के लिए तरसने को मजबूर होना पड़ रहा है। करोड़ों खर्च करने के बाबजूद लोगों को टैंकर के माध्यम से पानी मंगवाकर काम चलाना पड़ रहा है। 



भाजपा  सरकार लोगों को मुलभुत सुविधाएं भी नहीं करवा पाई उपलब्ध : लखनपाल

बड़सर विस क्षेत्र के विधायक इंद्रदत्त लखनपाल ने कहा कि बड़सर के दर्जनों गांव पानी कई समस्या से जूझ रहे है।  सरकार हर घर नल हर घर जल योजना का रोना रोकर लोगो को गुमराह कर रही है। जबकि हकीकत यह है कि क्षेत्र के लोग सरकार व विभाग की लापरवाही के कारण पानी की बूंद बूंद को तरस रहे है। उन्होंने कहा कि भाजपा  सरकार लोगों को मुलभुत सुविधाएं देने मे पूरी तरह नाकाम रही है। 

 

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहांक्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमेंगूगल न्यूज पर फॉलो करें।