बोर्ड ड्रॉपिंग केंद्र से ही बांटें जाएँ समस्त प्रश्न-पत्र : टीजीटी कला संघ

 प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड टर्म परीक्षाओं का आयोजन करने वाला है और ऐसे में बोर्ड परीक्षा व मूल्यांकन भी साल में दो बार होंगे, शिक्षकों को पेपर्स लाने हेतु साल में 2 बार अलग- अलग जगह भेजने की बजाय खंड या उपमंडल में एक जगह से प्रश्न-पत्र बांटने की व्यवस्था की जाए। 

 | 
.

हमीरपुर ।  प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड टर्म परीक्षाओं का आयोजन करने वाला है और ऐसे में बोर्ड परीक्षा व मूल्यांकन भी साल में दो बार होंगे। इस व्यवस्था को लागू करने से पहले शिक्षा बोर्ड यह प्रबंध कर ले कि खंड स्तर पर ही कक्षा 8 से 12 के टर्म पेपर्स बीपीओ और कक्षा 3 और 5 के पेपर्स बीईईओ/बीआरसीसी के माध्यम से स्कूलों को मिल जाएँ। वर्तमान व्यवस्था में 8वीं कक्षा के पेपर्स बीआर सीसी कार्यालय से, नौवीं और 10+1 कक्षा के जिला मुख्यालय से और दसवीं तथा 10+2 के पेपर्स ड्रॉपिंग केंद्र से मिलते हैं । ऐसे में शिक्षकों को पेपर्स लाने हेतु साल में 2 बार अलग-अलग जगह भेजने की बजाय खंड या उपमंडल में एक जगह से प्रश्न-पत्र बांटने की व्यवस्था की जाए।

यह सुझाव प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड को राजकीय टीजीटी कला संघ प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कौशल,  महासचिव विजय हीर व बैठक हेतु नियुक्त प्रतिनिधि संजय चौधरी ने भेजा है। संघ ने मांग की है कि अगले सत्र से नई शिक्षा नीति में 10+1 और 10+2 संकाय पद्धति में बदलाव किया जाएगा या नहीं, यह चर्चा समय पर कर ली जाए क्योंकि विद्यार्थी नई शिक्षा नीति में अपनी पसंद के विषय 10+1 औए 10+2 में पढ़ सकता है। इस व्यवस्था को यदि शिक्षा बोर्ड लागू करता है तो आवश्यक तैयारी और मापदंड निर्माण अविलंब शुरू किया जाए। यदि इसे सत्र 2023-24 से लागू करना है तो भी स्थिति स्पष्ट की जाए और आवश्यक औपचारिकताएँ पूर्ण क

र ली जाएँ।

संघ ने अनुसार एकरूप मूल्यांकन व्यवस्थाकक्षा 5 और 8 में भी वार्षिक प्रश्न-पत्र पूरी पाठ्यक्रम की जगह आधे पाठ्यक्रम से ही डाले जाएँ और अगले सत्र से नई शिक्षा नीति में 10+1 और 10+2 संकाय पद्धति में बदलाव किया जाएगा या नहीं, यह तय किया जाए क्योंकि विद्यार्थी नई शिक्षा नीति में अपनी पसंद के विषय 10+1 औए 10+2 में पढ़ सकता है जिसमें संकाय बाधा नहीं होगा। इस व्यवस्था को यदि शिक्षा बोर्ड लागू करता है तो आवश्यक तैयारी और मापदंड निर्माण अविलंब शुरू किया जाए । इसके अलावा 2023-24 के बाद एनसीईआरटी नए पाठ्यक्रम की किताबें छापेगा जिसके लिए किताबों का प्रकाशन स्टॉक जाँचकर हो ताकि अनावश्यक स्टॉक शेष न बचे।

परीक्षा का कठिनाई स्तर इस सत्र कम हो और बच्चे सरलता से परीक्षा हल कर सकें ताकि नई पद्धति उनको आरंभ में बोझिल न लगे। जिन अध्यायों में सरल प्रश्न न हों या वस्तुनिष्ठ प्रश्नों का अभाव हो , उनके लिए प्रश्न बैंक बनाया जाए और ऐसा ई-प्रश्न बैंक बोर्ड वेबसाईट पर अपलोड किया जाए। संघ ने परीक्षा की विशेष तैयारी हेतु हर घर पाठशाला में वीडियो बनाने की मांग भी संघ ने शिक्षा विभाग से की है।

1980 में शहीद कर्मचारियों को श्रद्धांजलि

टीजीटी कला संघ महासचिव विजय हीर ने  संघ के कार्यक्रम में वर्ष 1980 में प्रदेश में शहीद हुए कर्मचारियों को श्रद्धांजलि दी। हीर ने बताया कि पंजाब वेतन आयोग तर्ज़ पर लाभ व विविध मांगों को लेकर कर्मचारी 1980 में आंदोलन कर रहे थे और पुलिस की गोलीबारी में वे शहीद हो गए थे । ऐसे में संघ उनकी कुर्बानी नहीं भूलेगा और वेतन आयोग के अधिकतम लाभ कर्मचारियों को दिलवाने हेतु संघ प्रयास करेगा।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।