इलेक्ट्रिक कार में दिल्ली से काजा पहुंचे अंजनेय, दिया पर्यावरण संरक्षण का संदेश

26 सितंबर को दिल्ली से इलेक्ट्रिक कार लेकर काजा  के लिए निकले थे  दिल्ली के अंजनेय । दिल्ली से काजा तक चार्जिंग पर करीब 2000 रूपए खर्च किए हैं।
 | 
kaza

काजा। पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के बीच आज गाड़ी चलाना आसान नहीं है। रोजाना पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ रहे हैं, इससे जहां आम लोग दुखी हैं, तो वहीं उनका सफर भी मुश्किल हो रहा है। पेट्रोल-डीजल का झंझट खत्म करने के लिए ऑटोमोबाइल कंपनियों ने इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में उतारे हैं। इन इलेक्ट्रिक वाहनों की मदद से सफर को जहां सुगम बनाया जा सकता है, वहीं पर्यावरण को प्रदूषित होने से भी बचाया जा सकता है। इलेक्ट्रिक कार से देश के किसी भी कोने में आसानी से पहुंचा जा सकता है। यह कर दिखाया है दिल्ली के पर्यटक अंजनेय ने। अंजनेय दिल्ली से इलेक्ट्रिक कार के माध्यम से हिमाचल के सुदूर उपमंडल काजा पहुंच गए हैं।

दिल्ली के रहने वाले पर्यटक अंजनेय इलेक्ट्रिक कार से काजा पहुंचने में कामयाब रहे है। एडीएम मोहन दत्त शर्मा ने काजा पहुंचने पर अंजनेय और उनके दोस्तों को आशी पहना कर एडीएम कार्यालय के बाहर स्वागत किया। एडीएम मोहन दत्त शर्मा ने कहा कि हमारे स्पिति के लिए गर्व की बात है कि इस तरह प्रदूषण रहित वाहनों से पर्यटक यहां आ रहे हैं। इससे जहां पर्यावरण को संतुलित रखा जा सकता है। वहीं अन्य लोगों को भी इलेक्ट्रिक वाहन को अपनाने के  लिए कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि स्पिति में इलेक्ट्रिक वाहनों की तरफ लोगों को प्रभावित करने के लिए चार्जिग स्टेशन भी शुरू किया गया। ताकि इलेक्ट्रिक वाहन मालिकों को स्पिति आने में चार्जिंग करने का कोई डर न सताए।

पर्यटक अंजनेय ने बताया कि 26 सितंबर को दिल्ली से काजा के लिए निकले थे। इस दौरान उनका कुल खर्च चार्जिंग पर करीब 2000 रूपए आया है। इस दौरान उन्होंने करनाल, जाबली, नारंकडा, रिकांगपिओ और चांगो में गाड़ी चार्ज की है। टाटा नेक्सॉन इलेक्ट्रिक कार 15 एम्पेयर के चार्जिंग प्लग से आसानी से कहीं भी चार्ज की जा सकती है। उन्होंने कहा कि पहले जून महीने में भी स्पिति इसी कार के माध्यम से आए थे। लेकिन उस वक्त सिर्फ कोशिश की थी कि इलेक्ट्रिक कार से पहुंचा जा सकता है या नहीं। लेकिन पहुंच गया। इस बार फिर अधिकारिक तौर पर इलेक्ट्रिक कार के माध्यम से पहुंचा हूं। 


अंजनेय कहते हैं कि उनका लक्ष्य लोगों को अधिक से अधिक इलेक्ट्रिक वाहनों की तरफ प्रोत्साहित करना है। ताकि हम पर्यावरण को सहेज सकें। डीजल और पेट्रोल की गाड़ियों से काफी प्रदूषण फैलता है। उन्होंने बताया कि पहले वह मार्केटिंग प्रोफेशनल थे, लेकिन कोविड के कारण अब ब्लॉगिंग शुरू की है। उन्होंने स्पिति में चार्जिग स्टेशन स्थापित होने पर खुशी जाहिएर की। अंजनेय अगले दो दिनों तक इसी कार से विश्व के सबसे उंचे वाहन योग्य सड़क गांव हिक्किम में भी जाएंगे। एडीएम मोहन दत शर्मा ने तीनों पर्यटकों को शुभकामनाएं दी। इस मौके पर नायब तहसीलदार विद्या सिंह नेगी विशेष तौर पर मौजूद रहे।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।