हेरोइन के साथ पकड़ा गया बेटा, सदमे में सरकारी अधिकारी की मौत

पुत्र के चिट्टे समेत पकड़े जाने की खबर सुनते ही सदमे में पिता की मौत हो गई। फिलहाल पुलिस ने बेटे को गिरफ्तार कर लिया है।
 | 
death

हिमाचल प्रदेश में नशे का कारोबार लगातार बढ़ रहा है। आम लोगों के साथ ही बड़े घर के बेटे भी नशे की गिरफ्त में आ रहे हैं। ऐसे ही एक मामले के सामने आने से एक अधिकारी की मौत हो गई। मामला हिमाचल प्रदेश के जिला ऊना का है। यहां पुत्र के चिट्टे समेत पकड़े जाने की खबर सुनते ही सदमे में पिता की मौत हो गई। फिलहाल पुलिस ने बेटे को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच कर रही हैं।


जानकारी के अनुसार ऊना जिले के टाहलीवाल निवासी एक सरकारी विभाग में डिप्टी डायरेक्टर योगेश गुप्ता ने पुलिस को शिकायत दी थी। शिकायत में योगेश गुप्ता ने बताया कि उनका 22 साल का बेटा संयम दोपहर को कार लेकर बाजार गया था। शाम को जब वह वापस नहीं लौटा तो उन्होंने अपने स्तर पर संयम की तलाश की, लेकिन उसक कोई सुराग नहीं लगा। इसलिए उन्होंने पुलिस को मामले की जानकारी दी।


शिकायत पर कार्रवाई करते हुए जब पुलिस ने जांच की तो उनके बेटे के मोबाइल फोन की लोकेशन ऊना के टाहलीवाल में मिली। पुलिस ने टाहलीवाल में लगाए नाके पर संयम को रोकना चाहा। मगर संयम ने एकदम गाड़ी के ब्रेक लगा दी और पीछे करने लगा। पुलिस ने उसे पीछा करके किसी तरह रोक लिया। तलाशी ली तो कार के डैशबोर्ड पॉलिथीन पाउच में 3.13 ग्राम चिट्‌टा और एक आधा जला नोट भी मिला।


पुलिस ने फोन पर इसकी जानकारी योगेश गुप्ता को दी, जो वापस घर जा रहे थे। चिट्टे के साथ गिरफ्तार होने की सूचना मिलते ही वह सिटी चौक पर चक्कराकर गिर गए। आस-पास मौजूद लोगों ने योगेश गुप्ता को अस्पताल पहुंचाया। लेकिन उनकी मौत हो गई थी। पुलिस का कहना है कि सदमे की वजह से उनकी मौत हुई है। वहीं मामले की छानबीन की जा रही है।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।