नादौन में आयोजित रिवर राफ्टिंग प्रतियोगिता विवादों में, प्रमाण पत्र और मोमेंटो न मिलने पर किया हंगामा

समापन समारोह के बाद  समारोह स्थल पर उस समय हंगामा हो गया जब कई खिलाडिय़ों को प्रमाण पत्र व मोमेंटो तक नहीं मिल पाए। इतना ही नहीं कई खिलाडिय़ों ने तो आयोजकों पर टी शट्र्स और कैप आदि भी उपलब्ध न करवाने को लेकर कड़ा रोष व्यक्त किया।
 | 

हमीरपुर ।  नादौन में आयोजित चार दिवसीय ऑल इंडिया रिवर राफ्टिंग मैराथन सीरीज शुक्रवार को समापन के साथ ही विवादों में आ गई। समापन समारोह के बाद तुरंत बाद समारोह स्थल पर उस समय हंगामा हो गया जब कई खिलाडिय़ों को प्रमाण पत्र व मोमेंटो तक नहीं मिल पाए। इतना ही नहीं कई खिलाडिय़ों ने तो आयोजकों पर टी शट्र्स और कैप आदि भी उपलब्ध न करवाने को लेकर कड़ा रोष व्यक्त किया।

हैरानी की बात तो यह रही कि प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर रही सीमा सुरक्षा बल की महिला टीम को न तो प्रमाण पत्र और न ही टी-शट्र्स और न ही कैप तक उपलब्ध हो सकी। इससे नाराज और दुखी एक महिला खिलाड़ी ने आयोजकों के इस गैर जिम्मेदाराना रवैये को देखकर न केवल रोष जताया बल्कि समारोह स्थल पर ही फूट-फूट कर रोने लगी। इतना ही नहीं अन्य कई टीमों के प्रतिभागियों ने भी ऐसा ही आरोप लगाया। प्रतिभागियों का कहना था कि जहां एक और प्रदेश सरकार ने इस आयोजन के लिए 27 लाख का बजट उपलब्ध करवाया था। वहीं प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए आयोजकों ने प्रति टीम 10000 फीस भी ली गई थी।

गौर रहे कि जैसे ही मुख्यातिथि व अन्य अधिकारी कार्यक्रम के समापन के बाद वहां से गए तो आयोजकों ने प्रत्येक टीम के सदस्यों को अपने स्मृति चिन्ह व प्रमाण पत्र लेने के लिए बुलाया। लेकिन कुछ ही टीमों के बाद स्मृति चिन्ह व प्रमाण पत्र खत्म हो गए। इसके बाद कुछ टीम प्रभारियों तथा आयोजकों के बीच काफी बहस भी हुई। इसी दौरान कई खिलाडिय़ों ने बताया कि उन्हें तो आयोजन के लिए विशेष तौर पर बनाई गई टी-शर्ट तक नहीं मिली है। तब जाकर पता चला कि प्रतियोगिता की महिला विजेता टीम को भी यह सामान उपलब्ध नहीं करवाया गया है। राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में ऐसी लापरवाही को लेकर प्रतिभागियों में काफी रोष है।


 इस संबंध में राष्ट्रीय राफ्टिंग फाउंडेशन के अध्यक्ष शौकत सिकंद ने कहा कि सभी प्रतिभागियों को टी-शट्र्स उपलब्ध करवा दी गई हैं। जिन प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र नहीं मिले हैं उन्हें शीघ्र ही उपलब्ध करवा दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि एक दिन में अचानक टीमों की संख्या बढ़ जाने के चलते असमंजस की स्थिति बनी थी, लेकिन शीघ्र ही इस समस्या का समाधान करवा दिया जाएगा। 

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक  करें। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।